प्रयासों का परिणाम हैं बैंक मोड़ धनबाद में स्तिथ भगवान बिरसा मुंडा चौक।

धनबाद।बैंक मोड़ धनबाद में स्तिथ बिरसा चौक का इतिहास बहुत ही रोचक व संघर्षमय रहा हैं।इस चौक के बनने और भगवान बिरसा मुंडा का स्मारक बनने के पीछे एक ज़िद और कोशिश रही हैं।तभी जाकर यह सम्भव हुआ कि बिरसा चौक बना और स्मारक भी स्थापित किया गया।इस चौक को स्थापित करने का सारा श्रेय रतिलाल महतो और उनके मित्रों को जाता हैं।रतिलाल महतो वर्तमान में आजसू पार्टी के केंद्रीय सदस्य हैं।पर कभी एक सामान्य कार्यकर्ता हुआ करते थे।जिन्होंने धनबाद में आजसू के विस्तार के लिए अपना महत्वपूर्ण समय दिया हैं।अपनी उम्र बीता दी आजसू पार्टी के लिए।झारखण्ड आंदोलन के बाद रतिलाल अपने मित्र स्व. नजरुल हक़, स्व. राजू दुबे व अन्य के साथ हमेशा बिरसा मुंडा की जयंती और पुण्यतिथि के दिन श्रद्धांजलि के लिए राँची जाया करते थे।तभी इन्होंने सब सोच विचार कर यह तय किया कि धनबाद में भी बिरसा मुंडा के नाम से चौक की स्थापना की जानी चाहिए।

राँची से वापस लौटकर एक आम बैठक कर महादेव हांसदा,नजरुल हक़,राजू दुबे व अन्य की उपस्तिथि में यह तय हुआ कि अभी सिर्फ एक बोर्ड का निर्माण कर वहाँ गाड़ा जाए।फिर आगे जैसा होगा किया जाएगा।शुरुआत में जब बोर्ड को गाड़ने का प्रयास किया गया।तो थाना प्रभारी द्वारा अपमानित करके वापस लौटने को कहा गया।रतिलाल महतो व अन्य कार्यकर्ता के साथ सभी वापस लौट आये।ठीक उसी रात बोर्ड को बैंक मोड़ में गाड़कर चले आये।अगली सुबह थाना प्रभारी द्वारा बोर्ड भी हटा दिया गया और इन्हें चेतावनी भी दी गयी कि अगर दोबारा ऐसा किये तो परिणाम ठीक नहीं होगा।सोच विचार कर रतिलाल व अन्य ने इस मुद्दे को लेकर पूर्व सांसद एके रॉय से मुलाकात की।एके रॉय ने बहुत ही कड़े शब्दों में इसकी निंदा की और रतिलाल को कहा कि आपलोग पूर्व विधायक स्व. गुरुदास चटर्जी से मुलाकात कर लो।चौक भी बनेगा और स्मारक भी।

उसी समय रतिलाल ने पूर्व विधायक को फ़ोन करके सारी बात बताई।वह तुरंत निरसा से चले आये।आकर थाना प्रभारी को फ़ोन लगाया।नही लगा तो फिर सभी के साथ एसपी के पास गए।वहाँ जाकर थाना प्रभारी को बहुत डांटे।साथ ही यह एहसास कराया कि बिरसा मुंडा कोई आम सख्स नहीं थे।पूर्व विधायक स्व. गुरुदास चटर्जी की पहल पर चौक के लिए अनुमति भी मिल गयी।फिर बोर्ड भी लगा और आज स्मारक भी बन गया हैं।झारखंड अलग होने बाद आजसू पार्टी के पूरा जिला कमिटी केंद्रीय सदस्य भास्कर ओझा,अध्यक्ष संतोष महतो,निरसा विधायक अरूप चटर्जी,पूर्व पीडब्लूडी मंत्री सुदेश महतो की मौजूदगी में स्मारक का शिलान्यास भी किया गया।आवेदन के बाद स्मारक स्थापित किया गया।नगर निगम के सौजन्य से स्मारक का निर्माण किया गया।इसके पश्चात बिरसा मुंडा स्मारक संचालक समिति संयोजक मण्डली का महादेव हांसदा व अन्य सदस्यों के साथ मिलकर निर्माण किये।इस तरह से कई के प्रयास से बैंक मोड़ स्तिथ बिरसा चौक का निर्माण हुआ और स्मारक भी स्थापित किया गया।सच मे इस झारखंड को बनाने में न जाने कितने लोगों ने कुर्बानी दी।यह वही जानते होंगे।जिन्होंने उस दिन को जिया होगा।
नोट:- इन सभी बातों की जानकारी नेशनल टुडे लाइव डॉट कॉम को स्वयं रतिलाल महतो ने मौखिक दी हैं।

1,017 total views, 1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *